वर्ल्ड बैंक ने भारत से छिना ‘विकासशील’ देश का तमगा

नई दिल्ली। मोदी नेतृत्व की केंद्र सरकार में भारत विकसित देश तो नहीं बन सका, उल्टे भारत को लेकर विकासशील देशों का तमगा भी हट गया है। यह तमगा वर्ल्ड ने बैंक ने हटाया है। इसके बाद अब भारत को लोअर और मीडिल इनकम की श्रेणी में गिना जाएगा। यही नहीं ब्रिक्स देशों में भारत को छोड़कर चीन, रुस, दक्षिण अफ्रीका और ब्राजील अपर मीडिल इनकम की श्रेणी में आते हैं। आपको बता दें अबतक लोअर और हाई इनकम के आधार पर ही विकासशील और विकसित देश गिने जाते रहे हैं। 

modiji

वर्ल्‍ड बैंक के डाटा साइंटिस्‍ट तारिक खोखर ने कहा, “हमारे वर्ल्‍ड डवलपमेंट इंडिकेटर्स पब्लिकेशन में हमने लो और मिडिल इनकम वाले देशों को विकासशील देशों के साथ रखना बंद कर दिया है। विश्‍लेषणात्‍मक उद्देश्‍य से भारत को लोअर मिडिल इनकम अर्थव्‍यवस्‍था में रखा जा रहा है। हमारे सामान्‍य कामकाज में हम विकासशील देश की टर्म को नहीं बदल रहे हैं। लेकिन जब स्‍पेशलाइज्‍ड डाटा देंगे तो देशों की सूक्ष्‍म श्रेणी का प्रयोग करेंगे।” 

ये भी पढ़ें- ABVP के पूर्व कार्यकर्ता का खुलासा, रोहित वेमुला की हत्या में ABVP की थी भूमिका


वर्ल्‍ड बैंक की ओर से मलावी और मलेशिया दोनों विकासशील देशों में गिने जाते हैं। लेकिन अर्थव्‍यवस्‍था की दृष्टि से देखें तो मलावी का आंकड़ा 4.25 मिलियन डॉलर है जबकि मलेशिया का 338.1 बिलियन डॉलर है। नए बंटवारे के बाद अफगानिस्‍तान, नेपाल लो इनकम में आते हैं। रूस और सिंगापुर हाई इनकम नॉन ओईसीडी और अमेरिका हाई इनकम ओईसीडी कैटेगिरी में आता है। नई श्रेणियों को निर्धारण वर्ल्‍ड बैंक ने कई मानकों के आधार पर किया है। इनमें मातृ मृत्‍यु दर, व्‍यापार शुरू करने में लगने वाला समय, टैक्‍स कलेक्‍शन, स्‍टॉक मार्केट, बिजली उत्‍पादन और साफ-सफाई जैसे मानक शामिल हैं।

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s