टीचर का हुआ ट्रांसफर तो फूट-फूट कर रो पड़े स्कूल के बच्चे और गांववाले

मुरादाबाद। ये तस्वीर हैं गाजीपुर जिले के बभनोली निवासी अवनीश यादव की। उनके ट्रांसफर की खबर सुनते ही स्कूल के बच्चे और गांव के लोग फूट-फूट कर रो पड़े। अवनीश यादव की तैनाती 2009 में बतौर प्राथमिक शिक्षक देवरिया के गौरी बाजार के प्राथमिक विद्यालय पिपराधन्नी गांव में हुई थी। तब यहाँ स्कूलों में ना छात्र जाते थे और न ही शिक्षक जाते थे। गाँव वालों के लिए उनके बच्चे उनके कामकाज के हिस्सेदार थे। जितने ज्यादा हाथ उतनी ज्यादा कमाई। जब अवनीश यहाँ आये तो ऐसा वक्त भी रहा कि कक्षा में केवल दो या तीन बच्चे ही उपस्थिति रहते थे। ऐसी स्थिति देखकर उन्होंने इस गांव में घर घर जाकर सम्पर्क किया चूँकि गाँव में गरीब मजदूरों की सख्या काफी ज्यादा थी। इसलिए उन्हें काफी जोर मशक्कत करनी पड़ी। धीमे धीमे अवनीश की मेहनत रंग लाई मजदूरों ने अपने बच्चों को स्कूल भेजना शुरू कर दिया।

school-teacher-transfer1

अवनीश ने न सिर्फ गाँव के बच्चों को स्कूल तक ले आये बल्कि दिन रात उनके साथ मेहनत करके उन्हें इस योग्य बना दिया कि बड़े बड़े कान्वेंट के बच्चे इस प्राथमिक विद्यालय के बच्चों के सामने फेल हो जाए। क्या आप यकीं करेंगे कि यूपी के किसी प्राथमिक विद्यालय के बच्चे को अंतर्राष्ट्रीय राजनीति के बारे में पता हो? उन्हें ओलम्पिक खेलों में भारत के प्रतिनिधित्व की जानकारी हो? लेकिन अवनीश के बच्चे अलग थे उन्हें सब पता था । क्या सुबह क्या शाम अवनीश ने बभनौली में शिक्षा के बल पर ग्रामीणों की तकदीर बदलने का जो अभियान शुरू किया वो लगातार आगे बढ़ता चला गया। अवनीश ने केवल 6 सालों में पूरे पिप्राघन्नी की तस्वीर बदल कर रख दी। नतीजा यह हुआ कि गांव के लोग अवनीश को अपने बेटे की तरह मानने लगे उन्होंने कई पुरस्कार पाये । उनका सरकारी स्कूल किसी बड़े कान्वेंट को फेल कर रहा था कि अचानक उनका तबादला हो गया।

school-teacher-transfer

अवनीश का तबादला हुआ यूँ लगा जैसे बच्चों से उनका अभिभावक और गाँव से उसकी किस्मत दूर चली गई हो। दो दिनों पहले इधर अवनीश की विदाई हो रही थी उधर पूरा गाँव आंसुओं में डूबा था। स्कूल के बच्चे क्या रोये, अवनीश भी खूब रोये ,मजदूर भी रोये,किसान भी रोये , क्या बूढ़े क्या जवान हर तरह केवल रुदन था। हर आदमी केवल यही कह रहा था शिक्षक हो तो ऐसा। वहीँ बच्चे कह रहे थे मास्टर साहब, आप हमें छोड़कर मत जाओ, हम बहुत रोयेंगे। खैर, अवनीश यादव को जाना था वो चला गया ,गाँव वाले बताते हैं कि हम गाँव की सीमा तक उन्हें छोड़ने गए थे जब उन्होंने गाँव की पगडण्डी को छोड़ा वो बार बार मुड़कर पीछे देख रहे थे।

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s