गुजरात: गोरक्षकों के बाद दलितों पर पुलिस का कहर, 700 लोगों पर FIR

नई दिल्ली। गुजरात के उना में दलित अत्याचार के विरोध में एकजुट हुए लोगों की रैली के दौरान एक पुलिसकर्मी की मौत हो गई थी। इस मामले में पुलिस ने 700 दलितों पर केस दर्ज कर लिया। पुलिस द्वारा की गई मनघड़ंत एफआईआर के विरोध में अमरेली शहर में सैकड़ों दलित भूख हड़ताल पर बैठे हैं। पुलिसकर्मी की मौत 19 जुलाई को पुलिस वाहन से गिरने के दौरान हुई थी। पुलिस एफआईआर में उन लोगों को भी शामिल किया गया है जो कि उस रैली में मौजूद ही नहीं थे।  

gorakhak

अमरेली से मिली जानकारी के अनुसार इसमें बहुत सारे ऐसे लोगों के नाम शामिल हैं जो कि उस वक्त उस शहर में ही मौजूद नहीं थे। रजनीकांत मकवाना ने बताया कि उस दिन वे बीजेपी सांसद के साथ दूसरे शहर में कार्यक्रम में शामिल थे। पुलिस ने उनपर भी हत्या का मामला दर्ज कर लिया है। इस घटना के बाद पुलिस ने महिलाओं को भी बुरी तरह से पीटा था। पुलिस की पिटाई के बाद कई लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।  

इस मामले में जानकारी देते हुए राजू सोलंकी ने लिखा है….

attested-certificate
उना-कांड के विरोध में गुजरात के अमरेली शहर में रैली निकली थी. एक पुलिस कर्मी गिरने से मर गया. पुलिस ने 700 दलितों पर केस दर्ज किया. पेशे से वकील करसन राठौड़ रैली निकली तब कोर्ट में दलीलें कर रहे थे, उनका नाम FIR में है.
साथी कांति वाला को main accused बनाया है. कांति एक बहादुर नवजवान है, जिसने वडली अत्याचार के खिलाफ जान की बाजी लगाई थी. 

dalit-pirit
कल हजारों दलित अमरेली में अनशन पर बैठे. सभी साथियों को सलाम.
मीडिया हमारे साथ नहीं, कोई गम नहीं
जय भीम के नारे से बढकर कुछ नहीं

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s