सोशल मीडिया में छाई फूलन देवी, लोगों ने बताया आइरन लेडी

नई दिल्ली। 25 जुलाई को ही दिल्ली में फूलन देवी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। जिस जातीय शोषण के खिलाफ वो जिंदगी भर लड़ती रही। बंदूक उठाया। जेल में सजा काटी और फिर संसद पहुंची और जातीय शोषण के खिलाफ लड़ती रहीं। लेकिन उसी जातीय अहंकार ने महिला शक्ति, शोषण और बराबरी की बड़ी आईकॉन फूलन देवी की हत्या कर दी। सोशल मीडिया पर 25 जुलाई का दिन फूलन देवी के नाम रहा। दिनभर वह ट्रेंड करती रहीं। लोगों ने उन्हें जातीय शोषण, महिला शोषण के खिलाफ लड़नेवाली आइरन लेडी बताया।

blog-19

देखिए बहुजन समाज ने उन्हें कैसे श्रद्धांजलि दी।

विश्व की तीसरी सबसे बडी क्रान्तिकारी महिला फूलन देवी के शहादत दिवस पर शत् शत् नमन करते हैं।

“दलित शेरनी फूलन देवी”

पीयूष सोमन

फुलन देवी का महापरिनिर्वाण दिवस पर भावजंली श्रद्धा सुमन अर्पीत।

25 जुलाई 2001

फुलन देवी अमर रहे।

फुलन देवी का जन्म10 अगस्त 1963 को हुआ जिस समय पुरे भारत में तथाकथीत उच्ची जातीयों के द्वारा छुआछुत और शोषण आम बात थी।

एक समय ऐसा था जब गाँवों के ठाकुरों ने फुलन देवी को कुछ सालों तक लगातार शोषण किया और आबरु लुटते रहे। मौका देख फुलन देवी उन राक्षसों के चंगुल से निकल गयीं और खुद का एक गैंग बनाया और एक रात उन 22 ठाकुरों को मार कर उसका बदला लिया बाद में अपने 10 हजार सैनिकों के साथ समर्पण किया और राजनिती में कुद पडीं।

फुलन देवी को 11 साल जेल में रहने के बाद 1994 में रिहा किया गया जिसके बाद उन्होंने‪#‎_बौद्ध_धर्म ग्रहण किया जिसके बाद 1996 में फुलन देवी पहली बार लोकसभा के लिए चुनी गयीं और दिल्ली आवास में 25 जुलाइ 2001 को वो असल राजनिती की शिकार हुइ और उनकी हत्या कर दि गयी।

आज अगर सरकार देश के हर राज्य के पढाई के चैपटर में फुलन देवी को पढाये तो सच में भारत से रेप-बलात्कार जैसा घटना पर बहुत हद तक रोक लगाया जा सकता है।

फुलन देवी जी आपकी कमी सच में आज भी बहुत खलती है।

रामअवतार यादव

कोई हमारे ठेकेदारों को जगाना,

कोई मीडिया वालों को बताना

कोई निष्पक्ष चौथे खंभे को

याद दिलाना, 25 जुलाई

फूलन का शहादत-दिवस है

निर्भया के लिए कैंडिल जलाने वालो से,

दिन-रात खबर चलाने वालो से,

पीड़िताओं को ‘दलित’ बताने वालों से

कहना,

कैमरा ज़रा हिलाना,

कलम तनिक उठाना

बहन- बेटियों पर अत्याचार जारी है,

कल किसी और फूलन की बारी है !!

शंभू कुमार सिंह

महिला शस्क्तिकरण की मिसाल। महिला अत्याचार के खिलाफ देश की सबसे बड़ी आवाज। बहुजनों के शोषण के खिलाफ बगावत की आवाज

आज ही के दिन सांसद फूलन देवी जी को दिल्ली के सांसद आवास से पार्लियामेंट जाते हुए 25 जुलाई 2001 को मार डाला गया था,

फूलन देवी की शहादत पर- फूल फूलन को अर्पित,नमन व श्रद्धांजली

फूलन देवी एक दलितकी बेटीं ने किस प्रकार अपने ऊपर हुऐ अत्याचार का बदला लिया था लाईन से खड़ा करके गोली मारी थी आज उनकी शहादत दिवस पर शत शत नमन

विश्व के अब तक की महान 16 क्रांतिकारी महिलाओ की सूची में, भारत के ‘फूलन देवी’ “बैंडिट-क्वीन” को चौथे (4th) स्थान पर जगह मिली है……गांव से लेकर बीहड़ो तक एक स्त्री के साथ जितनी बर्बरता सवर्णों ने की है उसे याद करके जिसकी रूह नहीं कांपती उसे जेंडर जस्टिस…लाल सलाम कहते और महिला दिवस पर लंबा-चौड़ा भाषण झाड़ते देख कर किसी का खून उबल सकता है।…….खैर.उनकी शहादत को सलाम।

विश्व के अब तक की महान 16 क्रांतिकारी महिलाओ की सूची में, भारत के ‘फूलन देवी’ “बैंडिट-क्वीन” को चौथे (4th) स्थान पर जगह मिली है……गांव से लेकर बीहड़ो तक एक स्त्री के साथ जितनी बर्बरता सवर्णों ने की है उसे याद करके जिसकी रूह नहीं कांपती उसे जेंडर जस्टिस…लाल सलाम कहते और महिला दिवस पर लंबा-चौड़ा भाषण झाड़ते देख कर किसी का खून उबल सकता है।…….खैर.उनकी शहादत को सलाम।

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s